Skip to main content

एक अच्छा भूत - Horror Story in Hindi

Ek Achha Bhoot Horror Story in Hindi

            महेन्द्र दिवान की ये कहानी है। उसने बी.ऐ तक का अभ्यास किया हुआ था और वो उत्तरप्रदेश का रहवासी था।

            स्वभाव मे मिलनसार होने के कारन में बहुत ही जल्द दोस्त बना लेता हु। फेसबुक पे मुझे एक दोस्त मिला। उसने मुझे मुंबई घूम ने के लिए आमंत्रित किया। मुझे पहले से ही मुंबई जाने की बहुत ही इच्छा थी इसलिए मेने मुंबई जाने का पक्का किया।

            लेकिन मुझे नहीं पता था की मेरी ये छुटिया बहुत ही भयानक तरीके से ख़तम होगी। आज भी में उस खाखी कपडे पहने हुए भूत के बारे में सोचता हु तो मेरे मुँह में से चीख़ निकल जाती है।

             मुंबई मे मेरे दोस्त प्रतिक ने रेलवे स्टेशन के पास वाला घर पे मुझे रहने के लिए जगह दिया। 10 दिन की छूटीओ में जुहू, चोपाटी, महालक्षमी मंदिर, गेट वे ऑफ़ इंडिया देख ने का नक्की किया। प्रतिक नोकरी करता था इसलिए उसके पापा को दोपर का खाना देने जाने को मैने मदद करने का नक्की किया। मुझे नहीं पता था की दोस्त के पिताजी की ये मदद मुझे बहुत ही भारे पड़ने वाली थी।

             में मीरा रोड से टिफिन लेके जा रहा था। अचानक मेरी नजर दाई और खाखी कलर के कपडे पहने हुए एक आदमी पे पड़ी मुझे लगा की वो एक रेलवे का कर्मचारी होगा। मेने उसको देख कर अपना शिर थोडा हिलाया और उसने भी अपना शिर हिलाया। लेकिन में जेसे ही आगे बढ़ा वो आदमी भी रेलवे के पाटे पे आगे आगे चलने लगा। अब मुझे डर के कारन पसिना होने लगा। कंयू की मुझे लगा की वो मानसिक रूप से अस्वथ हे या फिर वो मुझे मर के लूट लेना चाहता है।

               मेने अपनी चलने की स्पीड बढ़ाई तो उस आदमी ने भी मेरे साथ दोड़ ने लगा। दोड़ ते दोड़ ते अचानक उसने एक पथ्थर उठा लिया और दूसरे हाथ मे पहले से ही एक लकड़ी थी। जब वो पथ्थर लेने के लिए नीचे झुका तब उसकी पीठ मेरी और हुई तो मेने देखा की उसकी पीठ पे मांस के टुकड़े लटक रहे थे और खून की धार बह रही थी। तब मुझे पता चला की मेरी उसके साथ मुलाकात हो चुकी है। अचानक ट्रेन की सिटी बजी और....और सिटी बजने के साथ ही....उस आदमी ने चीखे निकली....मेरे पर...."मेरे तो रूह तक खड़े हो गए।" और में कुछ भी सोचे बिना टिफ़िन फेंक के जोर से दौड़ने लगा। मेरी चम्पल भी रस्ते मे छूट गई और कंकड़ और पथ्थर वाले रस्ते पे 300 मीटर तक दोड़ के हाइवे तक पहुंचा। सन्नाटा और उस सनकी से दूर जाके लोगो की भीड़ देख कर मेरे जान मे जान आई। लेकिन डर के कारन में रोने लगा। मेरी सांसे इतनी तेज चल रही थी थकान के कारन में उस हाइवे पे बैठ गया। मुझे रोता हुआ देख कर लोग इकठे हो गए। किसी ने मेरी जेब से फोन निकल कर मेरे दोस्त से बात किया, मेरा दोस्त टेक्सी मे बिठा के उसके घर ले गया।

                 प्रतिक के पिताजी ने मुझे उस रेलवे ट्रैक के पास भटकता हरिया नाम के भूत की दुर्धटना वाली बात बताई। उन्होंने बताया की हरिया एक रेलवे कर्मचारी था। हरिया का काम ट्रेन के पाटे रिपेर करने का था और जानवरो को रेलवे के पाटे से दूर रखने का था। हरिया खुद का काम पूरा लगन और महेनत से करता था।

                 एक दिन एक जानवर का पैर रेलवे के पाटे मे फस गया था। हरियो ये देख कर पाटे की और भागा और अपना पुरा ताकत लगा के वो जानवर का पैर निकल ने की कोसिस करने लगा और उसी वक्त अचानक से ट्रेन आ गई। लेकिन बहोत ही कोसिस के बाद हरियो उस जानवर का पैर पाटे में से निकाल तो दिया, लेकिन ट्रेन की आवाज के कारन गभरा गया हुआ जानवर ने अपने सिंग से हरिया को उछाड़ के पाटे पर फेंक दिया और हरिया की पीठ पर से ट्रेन गुजर गई।

                 सायद यही कारण से हरिया ट्रेन के पाटे से गुजर रहे हरेक व्यक्ति को ट्रैक से दूर भगा रहा हे। और बहुत बात दोपर मे जानवर उस जगह पे जाके जोर जोर से चीख रहे हे। सायद उनको भी डराके हरियो रेलवे पाटे से दूर भगाना चाहता हे, ताकि किसी के साथ उसके जैसी दुर्घटना ना हो।

                दस दिन की छुटियाँ चार ही दिन मे पूरी करके में ट्रेन के बदले बस से वापस अपने गाँव चला गया। हरिया का भूत सायद अच्छे इरादे से लोगो को डरा रहा होगा, लेकिन उसको देखने का मेरा अनुभव मुझे आज भी डरा देता हे।

Comments

Popular posts from this blog

The voice that echoed in our house - हमारे घर में गूँजती हुई वो आवाज़ - छन छन छन

यह बात उन दिनों की है जब मैं नवमी कक्षा में पढ़ता था। तब मेरी उम्र 14 साल थी। कुछ समय में अपनी फैमिली के साथ रहता था, मेरी फैमिली में मम्मी पापा और मेरी छोटी बहन भी थी। मेरे पापा गवर्नमेंट की नौकरी करते थे इसलिए हमें सरकारी क्वाटर्स में रहना पड़ता था। जब मेरे पापा का प्रमोशन हुआ था तब हम ने उस कॉलोनी में एक बड़ा सा फ्लैट ले लिया। उसके बाद हम नए फ्लैट में शिफ्ट हो गए मैं बहुत ही खुश था, क्योंकि मैं सोच रहा था कि मैं अपना एक अलग से कमरा लूंगा।

पता नहीं क्यों जिस दिन से हम उस घर में रहने के लिए गए थे तब से मुझे उस घर में अजीबोगरीब बेचैनी महसूस हो रही थी। उस घर में मुझे देर से सोने की आदत थी क्योंकि हमारा TV चैनल वाला हर रात को एक नई फिल्म दिखाता था। और मेरे मम्मी पापा और बहन दूसरे कमरे में जल्द सो जाते थे। शुरु शुरु में तो सब कुछ ठीक था लेकिन अचानक मुझे एक रात को जब मैं अपने बेड पर बैठकर मूवी देख रहा था तो अचानक मुझे रूम के बाहर से किसी की आवाज सुनाई दी मुझे लगा कि मम्मी यहां पानी पीने के लिए उठी होगी। मैंने ध्यान नहीं दिया हां लेकिन मैंने TV का आवाज थोड़ा धीमा कर दिया लेकिन 4-…

पत्नी का भूत - Real Ghost Story in Hindi

पत्नी का भूत - Real Ghost Story in Hindi :
      आत्मा और भूतो की दुनिया बहोत ही रहस्यमय है। जिसका उनके साथ सामना होता है केवल वोही लोग मानते हे की आत्मा और भूत का इस दुनिया में वजूत है। और जो लोगो का उनके साथ सामना नहीं होता हे वे लोग सिर्फ़ उन्हें काल्पनिक ही मानते है, खैर जो भी हो। लेकिन भूत-प्रेत और आत्माओ का वजूत ही नहीं हे ऐसा बोल के उनका मजाक बनाने का कोई सबूत ही नहीं मिला है।

     कभी कभी ऐसी भी घटनाए भी सामने आई जो की अशरीरी आत्मा ओ का वजूत मानने को मजबूर कर देता है। विज्ञानं भी ये विषय पे परिक्षण कर रहा हे और ऐसे भी परिणाम सामने आए है जो बताते हे की मृत्यु बाद भी आत्मा ओ का अस्तित्व रहता है और वो कभी भी अपनी ईच्छा से प्रगट और अदृश्य हो जाते है।

     ये कहानी भी कुछ ऐसी ही है।

     ये कहानी लुधियाना शहर के एक रहवासी की है। वो अपने बिज़नेस के काम से पूर्व अफ्रिका की राजधानी नैरोबी मे जाके रहने लगा। एकबार उसकी पत्नी अफ्रीका से पंजाब वापस आई और अचानक से उसको दिलका दौरा पड़ा इसीलिये उसकी हालत बहुत ही गम्भीर हो गई।

     डॉक्टर्स ने भी उसको बचाने का बहुत ही प्रयास किया लेकिन वो नाक…

Meri Sautan ki Atma - मेरी सौतन की आत्मा

अनामिका शर्मा जो एक सामाजिक कार्यकर्ता, उसकी शादी पटना मैं हुई थी। शादी के दो साल मैं ही उसका तलाक हो गया था। अब वो अपने माता पिता के साथ पुणे मैं ही रहती है और वो एक संस्था के साथ जुड़ी हुई है जो घरेलु हिंसा के शिकार होने वाली महिलाओ की सहाय करती है। शादी तुटने से कोईभी महिला खुश नहीं रहती है लेकिन शादी करके जुलम सहने से अच्छा है कि हम अकेले ही रहे।

आज में आप को एक भयानक रहस्य बताती हु की जिस बजह से मेरा तलाक हुआ था। वैसे तो मेरे पति मेरा बहोत ही अच्छा ख्याल रखते है लेकिन जब उनको गुस्सा आता है तो वो एक अजीब इंसान बन जाते है, उनकी आवाज भी भारी हो जाती है। लेकिन मुझे ऐसा लगता था कि उनके गुस्से की बजह से उनके अंदर ऐसा बदलाव आ जाता है, लेकिन ऐसा बिल्कुन नहीं था। उनके ऐसे भयानक रूप के पीछे की सच्चाई कुछ और ही थी।

एक रात को में और मेरे पति सो रहे थे वंही पे अचानक मुझे महसूस हुआ की मेरे पति लंबी लंबी साँसे ले रहे थे, और नींद मैं ही बोल रहे थे की मुझे माफ़ करो, अब बस करो, अब बस करो, मुझे अब छोड़ दो, जो भी हुआ है उसमें मेरा कुछ भी कसूर नहीं है। यह सब सुनके तो मेरे रुवाटे खड़े हो गए। मैंने त…